नई दिल्ली (लाइवभारत24)। देश आज 73वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। सबसे पहले सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचकर देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान पीएम के साथ रक्षा मंत्री, राजनाथ सिंह, रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट, रक्षा सचिव अजय कुमार और सेना के तीनों अंगों यानि थलसेना, वायुसेना और नौसेना के प्रमुख मौजूद रहे।

15 मिनट बाद यानी 10.15 बजे पीएम राजपथ पहुंचे। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का काफिला घोड़ों पर सवार प्रेसीडेंट बॉडीगार्ड्स के साथ राजपथ पर पहुंचा। जहां प्रधानमंत्री ने उनका स्वागत किया। 10.26 पर ध्वजारोहण और राष्ट्रगान हुआ। 21 तोपों की सलामी दी गई।

10.28 मिनट पर राष्ट्रपति सलामी मंच पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के एएसआई बाबू राम को मरणोपरांत अशोक चक्र प्रदान किया गया। उनकी पत्नी रीता रानी शांति काल में वीरता का सबसे बड़ा पदक ग्रहण किया। राजपथ पर 90 मिनट तक परेड होगी, जो करीब 11.45 मिनट पर समाप्त होगी। इसके बाद थलसेना, वायुसेना और नौसेना का फ्लाई पास्ट शुरू हो जाएगा।

राष्ट्रगान के बाद 4 Mi-17V5 हेलिकॉप्टर्स ने वाइनग्लास फॉर्मेशन में परेड के दौरान पुष्प वर्षा की।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राजपथ पहुंचे। इसके बाद राष्ट्रगान हुआ और 21 तोपों की सलामी दी गई। राष्ट्रपति से पहले उनकी पत्नी सविता कोविंद राजपथ पहुंचीं।
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में ध्वजारोहण किया। इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं देशवासियों को 73वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं देता हूं। आज के दिन उन महानायकों और वीर सपूतों को याद करें जिन्होंने अपना सर्वस्व इस देश को गणतंत्र बनाने के लिए लगाया था
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विशेष परिधान में नजर आए। उन्होंने ब्रह्मकमल वाली उत्तराखंडी टोपी पहन रखी थी।

1 कमेंट

कोई जवाब दें

कृपया अपनी कमेंट दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें